Home » Jiyo To Aise Jiyo by Jayanti Jain
Jiyo To Aise Jiyo Jayanti Jain

Jiyo To Aise Jiyo

Jayanti Jain

Published August 12th 2014
ISBN :
Kindle Edition
239 pages
Enter the sum

 About the Book 

जीवन भर हम दूसरों के साथ कैसे रहें, यह सीखते हैं, लेकिन सवयं को भूल जाते हैं। जबकि अपने परथम मितर तो हम सवयं हैं। यदि हम अपने साथ सुख एवं खुशी से नहीं रह सकते हैं तो जीवन का कया अरथ है? हमारी उपलबधियाँ एवं जीतने का कया अरथ है? सवयं को खोकर कुछ भी पाMoreजीवन भर हम दूसरों के साथ कैसे रहें, यह सीखते हैं, लेकिन स्वयं को भूल जाते हैं। जबकि अपने प्रथम मित्र तो हम स्वयं हैं। यदि हम अपने साथ सुख एवं खुशी से नहीं रह सकते हैं तो जीवन का क्या अर्थ है? हमारी उपलब्धियाँ एवं जीतने का क्या अर्थ है? स्वयं को खोकर कुछ भी पा लें तो बेकार है। इस ‘स्वयं’ को सुव्यवस्थित करने की कला का नाम जीवन प्रबंधन है।प्रस्तुत पुस्तक में विद्वान् लेखक द्वारा कहानी, तर्क, शोध, व्यक्‍तिगत अनुभव एवं उदाहरण द्वारा जीवन जीने के सूत्र बताए गए हैं। हो सकता है, जीवन जीने के इन सूत्रों, विधियों, तरीकों या उपायों से आप पहले से ही अवगत हों, फिर भी आप इनकी शक्‍ति को कम न समझें। ये वे उपाय हैं, जो आपको जीवन जीने की कला सिखा सकते हैं। मार्ग पर चलना प्रारंभ करेंगे, आगे बढ़ेंगे, तभी लक्ष्य को प्